Durga Pooja 2021 :- दुर्गा पूजा क्यों मनाया जाता हैं और दुर्गा पूजा कब से शुरू होगा 2021?

1
Durga Pooja 2021
Durga Pooja 2021

Durga Pooja 2021 :: दुर्गा पूजा क्यों मनाया जाता है?

Durga Pooja 2021 :- दुर्गा पूजा का पर्व हिन्दीओ के लिए महान पर्व माना जाता हैं, जो साल में दो बार मनाया जाता हैं।  हिन्दू देवी दुर्गा की बुराई के प्रतीक राक्षस महिषासुर पर विजय पाने के रूप में मानाने की प्रथा की शुरुआत हुआ। अतः दुर्गा पूजा का पर्व बुराई पर अच्छाई की विजय (जीत) के रूप में भी माना जाता हैं। यह पश्चिम बंगाल की बंगाली हिन्दू समाज में सामाजिक-सांस्कृतिक रूप से सबसे महत्त्वपूर्ण उत्सव भी माना जाता हैं।

नवरात्रि 2021 में कब है ?
पंचांग के अनुसार नवरात्रि का पर्व 07 अक्टूबर 2021 से आरंभ होगा। इसे शरद नवरात्रि भी कहा जाता हैं।  शरद नवरात्रि का पर्व 15 अक्टूबर 2021 को समाप्त होगा। 

दुर्गा पूजा कलश स्थापना कब है 2021?
नवरात्रि का पर्व कलश स्थापना से आरंभ होता है। और इस बार शरद नवरात्रि 07 अक्टूबर 2021 को कलश स्थापना यानि घटस्थापना की जाएगी। कलश स्थापना के साथ ही नवरात्रि के पर्व की विधिवत  शुरूआत मानी जाती है। 

हमेशा अपडेट रहने के लिए हमारा ग्रुप ज्वाइन करें।
Durga Pooja 2021
Durga Pooja 2021

When is Durga Puja celebrated :: दुर्गा पूजा कब मनाया जाता है?

Durga Pooja 2021 :- दुर्गा पूजा (नवरात्री) साल (वर्ष ) में 4 बार मनाया जाता है, पौष मास, चैत्र मास आषाढ़ मास और अश्विन मास में प्रतिपदा से नवमी तक मनाया जाता हैं।

मगर ये मूल रूप से प्रतिवर्ष दो बार मनाया जाता हैं, चैत्र मास और अश्विन मास में , अश्विन महीने का जो दुर्गा पूजा मनाया जाता हैं ओ बहुत ही धूम धाम से मनाया जाता हैं, इसमें लोगो के बिच बहुत ही उत्साह रहता है और मौषम भी बहुत ही सुहाना रहता हैं। अंग्रेजी के अनुसार October का महीना रहता हैं।

Durga Pooja 2021 Date  नवरात्री प्रारंभ की महत्वपूर्ण तिथि 2021 

घटस्थापना की तिथि 07 अक्टूबर 2021, गुरुवार 
नवरात्री प्रारंभ की तिथि  07 अक्टूबर 2021, गुरुवार
नवरात्री नवमी की तिथि  14 अक्टूबर 2021, गुरुवार 
नवरात्री दशमी की तिथि  15 अक्टूबर 2021, शुक्रवार  

दुर्गा की पूजा इन सामाग्री

Click Here
शरद नवरात्रि कब से शुरू है?
  • पहला दिन माँ शैलपुत्री की पूजा होती है।
  • दूसरा दिन माँ ब्रह्मचारिणी- पूजा होती है।
  • तीसरा दिन माँ चंद्रघंटा पूजा होती है।
  • चौथा दिन माँ कुष्मांडा की पूजा होती है।
  • पाँचवा दिन माँ स्कंदमाता की पूजा होती है।
  • छठा दिन माँ कात्यायनी की पूजा होती है।
  • सातवा दिन माँ कालरात्रि की पूजा होती है।
  • आठवा दिन माँ महागौरी की पूजा होती है।
  • नौवा दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा होती है।
  • दसवा दिन शारदीय नवरात्रि का व्रत का पारण– दशमी  शारदीय नवरात्रि का पारण और माँ दुर्गा को विसर्जित किया जाता हैं। 

इसे भी पढ़े :- e shram card, UAN Card, ई श्रम योजना क्या हैं और क्या लाभ हैं।

अगर आप सभी में से कोई भी किसी अन्य प्रकार के फॉर्म का PDF Form चाहते हैं तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करें धन्यवाद:- www.biharform.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here