Rent Agreement Format in Hindi | Format For Rent Agreement Hindi Free | किरायानामा कैसे बनवाये 2023 ?

0
Rent Agreement Format in Hindi - Format For Rent Agreement Hindi
Rent Agreement Format in Hindi - Format For Rent Agreement Hindi

Rent Agreement Format in Hindi : आज के इस आर्टिकल में हम आपको Rent Agreement यानि की किरयनामा के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देने वाले हैं। जैसे किरायानामा क्या होता हैं | अगर आप भी Rent Agreement के बारे में जानकारी चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े। 

 

Rent Agreement Format in Hindi

Rent Agreement Format in Hindi के बारे में हम आपको सम्पूर्ण जानकारी बता रहे हैं, साथ ही आपको हम Rent Agreement का Hindi Format भी PDF, Word और JPG देने वाले हैं। जिसे आप निचे दिए गए Link से Download कर सकते हैं। 

Rent Agreement | Kirayanama क्या होता हैं ?

Rent Agreement | Kirayanama — किरायानामा यानी Rent Agreement दो लोगों के बीच हुये आपसी सहमति का दस्तावेज़ होता है, जो मकान मालिक और उस मकान को किराया पर लेने वालें के बीच होता है। इस तरह के एग्रीमेंट भविष्य की सुरक्षा और उसे ध्यान में रखकर तैयार किया जाता है और दोनों पक्षों द्वारा उस पर हस्ताक्षर किया जाता है।

बढ़ती जनसंख्या के कारण आवश्यक चीजों की भारी कमी आ रही है एक दुसरे में जिस हिसाब से बटना चाहिए वह नही हो पा रहा है उसमें से एक भूमि भी है जो बहुत लोगो के पास नही है और ऐसे में वह भारे के मकान पर रहने के लिए या फिर किसी तरह व्यपार करने विवश है।

अगर आप भी एक मकान मालिक है और अपने रूम को रेंट पर लगवाना चाहते है या फिर आप एक किरायेदार है जो रूम को रेंट पर लेना चाहते है उससे पहले आपको Rent agreement kya hota hai – Kiraynama kya hota hai के बारें में अवश्य जानना चाहिए।

किरायानामा क्या होता है – Rent Agreement in Hindi

यह एक प्रकार का एग्रीमेंट डॉक्युमेंट होता है, जो किरायेदार और मकान मालिक के बीच लिखित सहमति से बनाया जात है। जिस पर मकान मालिक और किरायेदार के बीच हुआ लिखित सहमति का विवरण दिया हुआ रहता है, जिसमें मकान कमरा, अवधि, एरिया, अग्रिम राशि (Advance) किराया राशि (Rent) इत्यादि के बारें में सभी जानकारी लिखा हुआ रहता है।

देखा जाएँ तो किराया पर रूम देकर पैसा कमाना एक अच्छा बिजनेस है जिसमें बस रूम में रहने के बदले पैसा मिलता है। जब भी मकान मालिक अपना रूम किराया यानि रेंट पर लगाते है तब वह अगले व्यक्ति के साथ रेंट एग्रीमेंट करना सुनिश्चित करते है।

Rent Agreement Format in Hindi के बारे में हम आपको सम्पूर्ण जानकारी बता रहे हैं, साथ ही आपको हम Rent Agreement का Hindi Format भी PDF, Word और JPG देने वाले हैं। जिसे आप निचे दिए गए Link से Download कर सकते हैं। 

किरायानामा का उद्देश्य | Rent Agreement Purpose

जब भी कोई प्रॉपर्टी मालिक अपने फ्लैट यानि मकान में रूम किराया पर देता है, तब वह किरायेदार के साथ किरायानामा पर हस्ताक्षर करवाता है जिससे अगर उन दोनों मे भविष्य मे कुछ बात बिगड़ी तो मकान मालिक और किरायेदार को Rent Agreement | Kirayanama के तहत हटा जा सकता है।

किरायानामा का उद्देश्य यह होता हैं की अगर Agreement मे तय समय से पहले प्रॉपर्टी मालिक ऐसा करता है, तब किरायेदार उसे चैलेंज कर सकता है, और रूम खाली नही कर सकता है। इस तरह के दस्तावेज़ को तैयार करने का मूल मकसद यही होता है कि भविष्य मेँ अगर कुछ समस्या आती है तो रेंट एग्रीमेंट के जरिये उसे समझौता किया जा सकता है।

किरायेदार को किरायानामा करने का एक अच्छा उदाहरण यह भी होता है कि अगर उस दस्तावेज़ से लिखित समय अवधि से पहले मकान मालिक रूम खाली करने का निर्देश देता है तब आपसी सहमति या कानूनी प्रक्रिया के माध्यम से इसे खाली करने से बचा जा सकता है।

जिससे भविष्य में उस दस्तावेज़ के जरिये अगर कोई परेशानी या समस्या आती है तो उसे ठीक किया जा सकता है यह एक तरह का दो लोगों के बीच का करारनामा होता है जिसमें पहले से सुनिश्चित किया हुआ सभी विवरण दिया हुआ रहता है। 

क्योंकि इसके जरिये आप रूम रेंट एग्रीमेंट को भविष्य के लिए संभाल कर रख सकते है और एक सबूत के तौर पर पेश कर सकते है। इस ब्लॉग लेख में आपको Rent Agreement Hindi Format मिलने वाला है साथ ही इससे संबन्धित हर जानकारी को जानने के लिए इस ब्लॉग को पूरा पढ़ें।

इसे भी पढ़े :-निवेश किसे कहते हैं | निवेश के प्रकार | निवेश करना क्यों जरुरी हैं?

एग्रीमेंट कितने साल का होता है?

भारत मे अक्सर मकान मालिक किरायेदार के साथ सिर्फ 11 महीने का ही किरायानामा बनाते है, जिसके पीछे का वजह लम्बी कानूनी प्रक्रिया है जिससे बचने के लिए वह ऐसा करते है अगर 11 महिना का एग्रीमेंट पूरा हो जाता है तब दोनों के बीच एक बार फिर से सहमति के साथ इसकी अवधि को बढ़ाया जा सकता है।

हर मकान मालिक और रूम किराया पर लेने वालें लोगों को रेंट एग्रीमेंट करवाना चाहिए और अपनी लिखित सहमति को उस दस्तावेज़ पर लिखवाना चाहिए, जिससे भविष्य मे आने वाली दोनों लोगों के बीच के विवाद को उस एग्रीमेंट के तहत खतम किया जा सकता है।

रजिस्टर्ड किरायानामा क्या होता है  – Registered Agreement in Hindi

यह एक प्रकार का सरकारी और कानूनी वैध दस्तावेज़ होता है, जिसमें मकान मालिक और किराया पर रूम लेके रहने वालें व्यक्ति के बीच लिखित सहमति होता है जिसको तैयार करने का मूलमकसद भविष्य मे आने वाली परेशानियों या समस्याओं को इस लिखित समझौते के तहत खतम करना होता है।

जिसमें दोनों पक्षों के बीच हुआ सहमति का विवरण लिखा हुआ रहता है, जिसे शर्ते किरायानामा कहते है। इसको आप ऐसे समझ सकते है कि मकान मालिक और रूम किराया पर लेके रहने वालें व्यक्ति के बीच जो कांट्रैक्ट साइन होता है उसे रजिस्टर्ड किरायानामा कहते है।

जिसमें लिखा हुआ रहता है कि मकान मालिक किसी व्यक्ति को एक सीमित समय के लिए और तय भुगतान की प्रक्रिया के साथ उसे अपने फ्लैट मे रहने का इजाजत देता है। जिसमें दोनों पक्षों के बीच हुआ आपसी लिखित सहमति शर्तों का विवरण दर्ज होता है जो कोर्ट मे भी मान्य होता है। 

रेंट एग्रीमेंट मतलब क्या होता है – Rent Agreement Meaning in Hindi

Rent का हिन्दी मे अर्थ किराया, भाड़ा, दरार, भूमिकर, भाटक होता है तो वही Agreement का हिन्दी अर्थ समझौता, अनुबंध, सहमति, शर्ते, सुलह होता है। जब दोनों शब्द को आपस में संयोग मिलन किया जाता है तब किरायानामा शब्द बनता है। इस शब्द का इस्तेमाल प्रॉपर्टि से संबन्धित रेंट देने के समय पर किया जाता है।

जब कोई व्यक्ति मकान या रूम भाड़ा पर लेके रहना रहना चाहता है तब प्रॉपर्टि मालिक उनसे किरायानामा दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करवाता है। जिसमें कई प्रकार के शर्तों का विवरण दिया हुआ रहता है अथार्थ वह इस रूम में कितना दिनों तक रह सकता है इसके लिए उसे हर महीने कितना किराया देना होगा, रात को वह कब तक आ सकता है, क्या-क्या चीज़ रूम मेन करना अवैध है इत्यादि चीजों का लिखित सहमति होता है।

  • Rent – किराया, भाड़ा, दरार, भूमिकर, भाटक

  • Agreement – समझौता, अनुबंध, सहमति, शर्ते, सुलह

रेंट एग्रीमेंट के फायदे – Rent Agreement Benefits in Hindi

भारत में मध्यवर्गीय परिवारों की संख्या बहुत है, और उनका कई सपनों में से एक सपना यह भी होता है कि उनका घर अपना हो, लेकिन शहरीकरण की अधिकता हो जाने के कारण हर किसी के पास अपना घर नहीं है, ऐसे में वह रूम या घर किराया पर लेकर रहते है या व्यपार करते हैं , जिससे प्रॉपर्टी मालिक उनसे रेंट एग्रीमेंट करवाता है।

जो दोनों पक्षों के लिए भविष्य को देखते हुए एक कानूनी दस्तावेज होता है जिसमें लिखे बातों को ध्यान में रखकर वह एक दूसरे से बंधे हुए रहते है। इस प्रकार Rent Agreement Ke Fayade बहुत होते है:-

  • इस प्रकार के लिखित आपसी सहमति किरायदेदार और मकान मालिक के बीच हुए भविष्य में सहमति को काम करता है।

  • इसमें लिखे शर्तों के आधार पर वह एक दूसरे से बंधे होते है और समय से पहले मकान मालिक रूम से नही हटा सकता है या फिर रेंट किराया में वृद्धि नहीं कर सकता है।

  • घर में हुए किसी भी तरह के नुकसान से आपको बचाता है अगर भविष्य में उसमें कोई अप्रिय घटना होती है तब उसका जिम्मेदारी मकान मालिक के पास होगा।

  • रेंटल एग्रीमेंट एड्रेस प्रूफ के रूप में भी काम करता है और किसी भी शहर इत्यादि में आपका अस्तित्व सुनिश्चित करता है और विभिन्न वित्तीय लेनदेन के लिए एड्रेस प्रूफ का काम करता है।

  • इस प्रकार के किरायानामा से बैंक के ऋण के प्रमाण के रूप में कार्य करता है। यदि आप बैंक ऋण के लिए आवेदन कर रहे हैं तो आपको एक पता प्रमाण जमा करने के लिए कहा जाता है इस मामले में किराए का समझौता आप के बचाव में आएगा और अन्य दस्तावेज की तुलना में एक मजबूत पते के प्रमाण के रूप में कार्य करेगा।

  • यह वाहन पंजीकरण में भी काम आता है नए वाहन पंजीकरण के लिए पंजीकृत कराए का समझौता जरूरी है।

  • रेंटल एग्रीमेंट एक पहचान प्रमाण के रूप में कार्य करता है। इसके मदद से आप हर जगह पहचान पत्र को पैन कार्ड, पासपोर्ट, हलफनामे, कॉलेज आईडी में इसके पता को दे सकते हैं।

  • अगर आप किराए के मकान में रहते हैं और पासपोर्ट के लिए आवेदन करते हैं तो इसके लिए आपके पास रेंटल एग्रीमेंट का होना बहुत जरूरी हो जाता है इससे पुलिस वेरिफिकेशन की प्रक्रिया आसान हो जाती है।

  • इसके अलावा अन्य कई तरह के सरकारी योजनाओं का लाभ लेने के लिए किराए पर रहने वाले व्यक्ति के पास रेंट किरायानामा का होना बहुत जरूरी होता है।

किरायानामा बनाने के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट – Rent Agreement Documents 

अगर आप मकान मालिक है या फिर रूम किराया पर लेने जा रहें है और अगर आपको वहा पर एग्रीमेंट करने के लिए बोला जाता है तब उसके लिए दोनों पक्षों के लिए कई तरह के डॉक्यूमेंट का होना जरूरी होता है जिसका लिस्ट नीचे दिया गया है –

  • प्रॉपर्टी मालिक और किरायेदार का आधार कार्ड और पैन कार्ड का फोटो कॉपी

  • दो गवाह एग्रीमेंट पर साइन करते समय  होना चाहिए और उनका आधार कार्ड

  • 50 रूपया से ऊपर का स्टांप पेपर होना चाहिए।

  • या इसके अलावा रेंट एग्रीमेंट का फॉर्मेट प्रिंट (निचे से डाउनलोड करें)

  • दोनो पक्षों का पासपोर्ट साइज फोटो जो एग्रीमेंट पेपर पर लगेगा।

  • मकान किराया और सिक्योरिटी (Advance) के रूप में जमा किया गया पैसा 

इसे भी पढ़े:- विवाह प्रमाण पत्र | Vivah Panjikaran | Marriage Certificate Form

Rent Agreement Key Points in Hindi 

  • दोनों पक्षों का पूरा नाम, पिता का नाम, उम्र, पता आदि किरायानाम पर लिखा हुआ होना चाहिए।
  • आपसी सहमति से उन सभी शर्तों को लिखवाएं जो भविष्य में आने वाली समस्या को वही खतम कर सकता है।

  • प्रॉपर्टी मालिक द्वारा हर महीने का तय किया गया किराया और उसमें वृद्धि का शर्त

  • सिक्योरिटी धन राशि प्रॉपर्टी मालिक को कितना देना है और इसे वापस पाने का शर्त

  • मकान छोड़ने का शर्त समय से पहले और समय के बाद 

  • बिजली बिल, पानी बिल किरायेदार को देना होगा या मालिक को उसका शर्त

  • किराया कब तक देना है अगर इसमें कभी विलंब हो जाती है तो उसका शर्त

  • मकान मालिक के इजाजत के बिना किरायेदार द्वारा रेंट पर रह रहें मकान में किसी भी तरह का मोडिफिकेशन करने शर्त।

  • किरायानामा पर अन्य दो लोगों का गवाह के रूप में हुआ हस्ताक्षर 

  • मकान खाली करने से पहले मालिक को इसकी सूचना कब तक दिया जाना चाहिए का शर्त

  • मकान में किस व्यवस्था के साथ रहना चाहिए उसका शर्त इत्यादि को रेंट एग्रीमेंट करते समय अवश्य ध्यान में रखें, तब ही दस्तावेज पर हस्ताक्षर करें।

किरायानामा कैसे बनाते है – Rent Agreement Format in Hindi

किरायानामा बनाने के लिए यह जरूरी होता है कि आपके पास स्टांप पेपर होना चाहिए, इसके अलावा इंटरनेट पर रेंट एग्रीमेंट फॉर्मेट दिया हुआ रहता है जिसमें शर्तों का विवरण रहता है आप उसे अपने अनुसार शर्तों को कम या ज्यादा कर सकते है।

इस प्रकार के लिखित एग्रीमेंट करने का अधिकार प्रॉपर्टी मालिक के पास ही होता है। अगर कोई व्यक्ति उनकी शर्तों को पूरा करता है और दस्तावेज पर हस्ताक्षर करता है तब वह किराए के मकान में रह सकता है।

रेंट एग्रीमेंट कैसे बनाये | मकान और दुकान का किरायानामा

हम आपको यहाँ पर रेंट एग्रीमेंट करने का कई हिन्दी फॉर्मेट देने वालें है जिसमें शर्त का पूरा विवरण दिया हुआ है। आप चाहे तो इस फॉर्मेट का प्रिंट निकालकर किरायेदार के साथ किरायानामा बना सकते है। हम आपको निचे PDF और Word में भी Format देने वाले हैं : –

tFs7 ukNVmq44c 08fCIMH7c7LRcTA7cyIK8DMSDgIHj1WGGmGvUbEd6bxkkalVGZJD5noAttCMcfOjR7QmdjNOV3QQdj56sXNFc0AJYYcz9Gk631ZizXmeB9PdcSFeqmMmTJiW9AtQi PpuwVoz7D9g6MED20rB3MlieU 1oBJsC 5VmoeyER7pIg

 

KYTwO5vUdFXW06YIFWqGS3i3GEo3VXT1sPzN7jmFnbtEfw6y6JHkB VP7W3fk6EsMNPhJo9c3ZPuiDSe8Y0hYOb9A5G70xtwNXNn9houUQu 4E9C4SHVbbid80s0kB1tbTTlbLCdTXCuNBWOXeznU uL4EdvDZzHiPmxyezr2QoB

rgmvCgxOObRHcl9 I22wGS9wb QPnsVT93SjAaLTu126cz Xjxseu39NkZ7T3GYNR61eh4lCogFxflhYWusYCVBY9sETPETI KjgHknHojQSFznZU25M2ud1GYdXXo6gzmBWTMVvKLpL3Kak3z 8waCiVtf1TdqjIFoO

Rent Agreement Format For Shop | Rent Agreement Kaise Banaye

अगर आप दुकान खोलने के लिए रेंट एग्रीमेंट कर रहें है, तब आपको नीचे दिया गया फॉर्मेट का इस्तेमाल करना चाहिए, जिसमें सभी बातों को ध्यान में रखकर बनाया गया है: –

dL1schNGewJZw SbJMrSAxrS wnT0TJieqc4EDTEdzJBMmi3b3LANxqNboxZKJLlVpB0eqtjb fJ15QI5HUY38W l9F tmDtxkaXZVI3yr1Jmn3q9uJQALH3C47bjcxk9Bj6MA4KhKEJpGEl CU mJ FI AEsiZfNb5JET 59jmt9R

Shop Rent Agreement

 

ऑनलाइन रेंट एग्रीमेंट कैसे बनाते है – Create Rental Agreement Online

इंटरनेट पर कई ऐसा वेबसाइट है जो मुफ्त में किरायानामा बना कर दे देता है, बस आपको उसमें मकान मालिक और किराया पर रूम लेके रहने वालें व्यक्ति का सभी जानकारी और उनका फोटो अपलोड करना होता है और बस कुछ ही समय में उसका पीडीएफ़ फ़ाइल डाउनलोड हो जाता है जिसे दोनों लोग अपने पास रख सकते है।

  • ऑनलाइन रेंट एग्रीमेंट बनाने के लिए आपको सबसे पहले गूगल पर Free Online Rent Agreement Generator टाइप करके सर्च करना होगा।

  • जिसके बाद आपसे सामने कई वेबसाइट का लिंक आ जाएगा, जिसमे अपने अनुसार किसी एक पर क्लिक करें और उसमें अपना सभी जानकारी को दर्ज करें, जो ऊपर में बताया गया है।

  • उसके बाद पीडीएफ़ फ़ाइल डाउनलोड होगा जिसका प्रिंट आउट करके दोनों पक्ष अपने पास भविष्य की सुरक्षा के लिए रख सकते है।

  • इसके अलावा आप चाहे तो इसका Template भी डाउनलोड कर सकते है जिसमें दोनों पक्ष अपना विवरण और फोटो को लगाकर किरायानामा कर सकते है। जो बहुत ही आसान है।

Rent Agreement Format Pdf | Rent Agreement Format Doc

Rent Agreement Format Pdf ⇒  Click Here
Rent Agreement Format Doc ⇒ Click Here
Shop Rent Agreement Format Pdf ⇒
Update Soon
Shop Rent Agreement Format in Word ⇒
Update Soon

निष्कर्ष / Conclusion

इस ब्लॉग पोस्ट में आपने Rent Agreement के बारें में विस्तार से जाना है, साथ ही आप यह भी पढ़ चुके है कि Kirayanama kaise karte hai आशा करते है की आपको Rent Agreement के बारे यह जानकारी बहुत ही पसंद आया होगा और हर तरह के सवाल का जवाब इस ब्लॉग में मिल चुका होगा। अगर फिर भी आपके मन में कोई सवाल हैं तो कमेंट करें, मैं उसका उत्तर जल्द ही देने कोशिश करेंगे।

आपको लगता है कि रेंट एग्रीमेंट – किरायानामा पर लिखा पोस्ट बहुत ही सटीक और सबके लिए महत्वपूर्ण है तब इसे सभी लोगों के साथ सोश्ल मीडिया पर अवश्य साझा करें। शुरू से अंत तक इस ब्लॉग को पढ़ने के लिए आप सभी का तहेदिल से शुक्रिया…   

हमेशा अपडेट रहने के लिए ग्रुप ज्वाइन करें।

WhatsApp

Q. किरायानामा बनवाना क्यों अनिवार्य है?

Ans. अगर आप कोई भी रूम, घर, या कोई प्लॉट को किराया पर ले रहे हैं या किराया पर दे रहे हैं, तो किरायानामा बनवाना बहुत जरुरी होता हैं। किरायानामा 2 पक्षों का एक सहमति दास्तावेज होता हैं।  जो दोनों पक्षों में विवाद होने से रोकता हैं। और भविष्य में कोई विवाद न हो इसलिए किरायानामा अनिवार्य होता हैं। 

Q. रेंट एग्रीमेंट कैसे लिखे | किरायानामा कैसे लिखा जाता है?

Ans. रेंट एग्रीमेंट लिखने के लिए सभी पॉइंट ऊपर बताया गया हैं, आप चाहे तो निचे लिंक से PDF और Word में डाउनलोड भी कर सकते हैं।  

Q. रेंट एग्रीमेंट कितने प्रकार के होते हैं?

Ans. रेंट एग्रीमेंट मुख्यत 2 प्रकार के होते हैं। 1. किसी प्रकार के दुकान या अन्य व्यपार करने के लिए और 2. रहने के लिए कोई रूम/घर। दोनों को बनाने के एक ही तरीका हैं मगर उसमे लिखने पॉइंट अलग-अलग होगा।  

इसे भी पढ़े:-आवासीय प्रमाण पत्र ऑनलाइन download, जातीय,आय प्रमाण पत्र ऑनलाइन।