Responsive Menu
Add more content here...

Sonpur Ka Mela कब से कब तक और कितने दिनों का लगेगा 2023

Sonpur Ka Mela से सम्बंधित सभी जानकारी आज आपको आर्टिकल में मिल जायेगा। सोनपुर मेला 30 दिनों का होता हैं, जो कार्तिक पूर्णिमा को शुरू होता हैं और एक महीना तक रहता हैं, यह भारत देश का सबसे बड़ा मेला कहलाता हैं। इसे हरिहर क्षत्र मेला के नाम  जाना जाता हैं। 

Sonpur Ka Mela | सोनपुर का मेला कब लगता हैं?

हर साल कार्तिक पुर्णिमा से शुरू होने वाला सोनपुर मेला जिसे हरिहर छत्तर, छत्तर मेला, पशु मेला के नाम से भी जाना जाता है यह एशिया का सबसे बड़ा पशु मेला है। जहां पर हर साल लाखों की संख्या में श्रद्धालु पुजा करने और पशु मेला देखने आते है।

पशु प्रेमियों और खरीददारी करने के शौकीन लोगों के लिए सोनपुर मेला एक आकर्षक का केंद्र है जहां पर आपको हर चीज़ सस्ते में मिल जाता है। इस विशाल और ऐतिहासिक मेले की शुरुआत सारण के बैस राजाओं के द्वारा मुगल बादशाह अकबर के समय से बहुत पहले ही किया गया था।

Sonpur Mela Kab Lagta Hai 2023

सोनपुर मेला प्रत्येक वर्ष कार्तिक पूर्णिमा से शुरू होता हैं और अगले एक एक महीना तक रहता हैं। यह एशिया का सबसे बड़ा पशु मेला माना जाता हैं। 

ऐसा माना जाता है कि इस मेला में आपको जो चीज़ चाहिए होता है वह मिल ही जाती है। इस बार मेला का शुरुआत 25 नवम्बर 2023 को हो रहा है जो 25 दिसंबर 2023 तक सरकारी अधिकारिक रूप से चलेगा। किन्तु यह मेला 31 जनवरी तक जारी रहता है।

इस ब्लॉग लेख में आपको History Sonpur Mela in Hindi के बारें में विस्तृत जानकारी मिलने वाला है साथ ही आप Sonepur Mela 2023 Dates – सोनपुर का मेला कब लगता है 2023 जैसे सभी प्रश्नो का जवाब इस ब्लॉग में दिया जाएगा।

 सोनपुर मेला के बारें में – Sonpur Pashu Mela History in Hindi

यह पशु मेला पूरे भारत ही नही बल्कि पूरे एशिया का सबसे बड़ा पशु मेला है जो बिहार राज्य के वैशाली जिले के मुख्यालय लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर गंडक नदी के किनारे हर साल इसका आयोजन सरकारी तंत्र के द्वारा किया जाता है।

Sonpur Mela

यह मेला भगवान हरिहरनाथ (शिव और विष्णु) की पूजा के लिए शुरू किया गया था। चूंकि यह पूरे एशिया से कई लोगों को आकर्षित करता हैं। इस मेले का मुख्य उद्देश्य जानवरों का व्यापार है, जिसका प्राचीन काल में बहुत महत्व था जो आज भी उसी रूप में बरकरार है।

Sonpur Mela History | सोनपुर मेला का इतिहास 

सोनपुर मेला कब से शुरू हुआ था

चौथी शताब्दी ईसा पूर्व से

सोनपुर मेला किसने शुरू किया था

बैस राजाओं के द्वारा

सोनपुर मेला कहां लगता है

बिहार राज्य के सोनपुर (सारण जिला) में

विश्व का सबसे बड़ा मेला कहां लगता है

Advertisements

सोनपुर मेला (पशु मेला) बिहार, भारत

पशु मेला सोनपुर कब से लगता है

प्रत्येक वर्ष कार्तिक पुर्णिमा से

मेला की आवृत्ति

हर साल आयोजित

मेला में प्रतिभागियों

हिन्दू समाज

मेला की गतिविधि

पशु व्यापार, ख़रीदारी, सांस्कृतिक कार्यक्रम, गुणवत्ता वाले ऊनी और कश्मीरी कपड़े, मीना बाजार इत्यादि

इसे भी पढ़े: बिहार का निर्माण कब और कैसे हुआ?

पशु मेला सोनपुर की उत्पत्ति चौथी शताब्दी ईसा पूर्व में ही हुई थी जब एक भारतीय राजा चंद्रगुप्त मौर्य इस क्षेत्र पर शासन करते थे। प्रारम्भ में इस मेले की शुरुआत हाजीपुर में हुआ करता था और प्रसिद्ध हरिहर नाथ मन्दिर (भगवान राम द्वारा निर्माण मन्दिर) सोनपुर में श्रद्धालुओं द्वारा पुजा किया जाता था,

लेकिन वर्तमान में मुगल बादशाह औरंगजेब के आदेश के बाद मेले का आयोजन सोनपुर के गंडक नदी के किनारे किया जाता रहा है जो सारण जिला के अंतर्गत आ जाता है। आपको ज्ञात हो कि सोनपुर गंडक और गंगा नदी के संगम पर स्थित है, इसलिए हिन्दू धर्म के लिए यह एक पवित्र स्थल है।

सोनपुर मेले के अलावा सोनपुर पशु मेले में आने वाले लोगों का एक मकसद हरिहरनाथ मंदिर में समाधि पर पवित्र डुबकी लगाना और सम्मान देना है। आज यह मेला अपने उसी रूप में हर साल होती रहती है जहां पर लाखों की संख्या में भारतीय और विदेशी पर्यटक आते रहते है।

सोनपुर का मेला की तिथियाँ 2023

हर साल सोनपुर मेला का आयोजन करने के लिए हिन्दू कैलेण्डर के अनुसार तिथियाँ को चुना जाता है और कार्तिक पुर्णिमा के दिन से इसकी शुरुआत होती है। पहले यह मेला सिर्फ 30 दिनों के लिए ही आयोजित किया जाता था,

लेकिन यह मेला सरकारी रूप से 30 दिनों के लिए आयोजित किया जाता है जो अगले साल के अंतिम जनवरी तक चलते रहता है। इस बार हरिहर छत्तर मेला का आयोजन 25 नवम्बर 2023 से 25 दिसंबर 2023 तक किया जाएगा।

सोनपुर मेला की शुरुआत कब होती है

कार्तिक पुर्णिमा से

सोनपुर मेला 2022 की शुरुआत कब से होगा

25 नवम्बर 2023

सोनपुर का मेला 2022 कब तक रहेगा

25 दिसंबर 2023

 सोनपुर मेले के प्रमुख आकर्षण

  • हरिहर नाथ मन्दिर का दर्शन
  • सोनपुर पशु मेला
  • खेल प्रतियोगिता
  • गंगा माता आरती
  • ऊनी वस्त्र का बाजार
  • सरकारी मेला प्रदर्शनी

सोनपुर मेला में क्या-क्या बिकता है?

यह मेला पशु व्यापार के लिए बहुत ही आकर्षक रहा है और इस मेले को शुरू करने का मकसद भी पशु व्यापार की प्रदर्शनी करना और इसे बढ़ावा देना है यहाँ पर आपको कई प्रकार के कुत्तों, गधों, टट्टू, फारसी घोड़ा, खरगोश, बकरी, तोता, कौवा, कोयल, ऊँट, गाय, भैंस इत्यादि बिकते हुआ दिखेगा |

Sonpur Ka Mela

इसके साथ ही मेले मे आए हाथी का प्रदर्शनी लोगों को काफी लुभाती है लेकिन वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 के तहत हाथी की खरीद-बिक्री के लिए सोनपुर मेला में प्रतिबंध लगा दिया गया था। यह भी उतना ही सत्य है कि सोनपुर मेला ही एक ऐसा स्थान है जहां इतनी बड़ी संख्या में हाथी होते हैं और उनका कारोबार किया जाता है।

इसके अलावा आपको वहाँ पर सैंकड़ों की संख्या में ऊनी वस्त्र (जैकेट, स्वेटर, टोपी मफ़लर, स्काफ इत्यादि) सस्ते दामों पर मिल जाता है। साथ ही बर्तन, हस्तशिल्प तक कई तरह के सामान, कृषि उपकरण, गहने मिल जाएंगे।

Bihar Sonpur Mela 2023 का एक बड़ा आकर्षक मीना बाजार भी होता है जहां पर लखनऊ से लेकर दिल्ली और मुंबई तक के मीना बाजार के दुकान लगते है जो सस्ते में सैंकड़ों तरह के समान को बेचते हुये दिखते है।

इसे भी पढ़े :- Rent Agreement Format in Hindi | किरायानामा कैसे बनवाये?

सोनपुर मेला में कैसे पहुंचे – How to reach Sonepur Mela in Hindi

सोनपुर मेला में आने के कई बड़ी ही आसान यातायात की सुविधा उपलब्ध है जो अलग-अलग मार्गों के लिए अलग-अलग है: –

  • हवाई जहाज से – इससे आने के लिए आपको पटना हवाई अड्डा पर उतरना होगा और वहाँ से 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित सोनपुर मेले में आने के लिए टैक्सी से आना होगा जो 25-30 मिनट में मेला में पहुंचा देगी।

  • रेलगाड़ी से – इसके लिए आपको पटना जंक्शन से सोनपुर जंक्शन या हाजीपुर जंक्शन आना होगा उससे बस 2 किलोमीटर की दूरी पर ही मेला का आयोजन किया जाता है।

  • रोड गाड़ी से – पटना इधर से आने के लिए हाजीपुर के लिए बस पकड़ना होगा या किसी भी दिशा से सड़क के माध्यम से आने के लिए हाजीपुर के लिए बस या ऑटो लेना होगा। 

सोनपुर के मेला में धनिया हरेली करके कई गाना भी बना हुआ हैं। 

यहाँ निचे हम आपको एक वीडियो का लिंक शेयर कर रहे हैं जिस गाना का बोल हैं:- “सोनपुर के मेला में धनिया हरेली दरोगा बाबू” यह गाना भोजपुरी भाषा में गया गया हैं। जो सुनाने बहुत ही अच्छा लगता हैं। 

निष्कर्ष

इस ब्लॉग लेख में आपने सोनपुर का मेला कब लगता हैं 2023 के बारें में विस्तृत जानकारी हासिल किया है। आशा करते है आपको Pashu Mela in Bihar के बारें में पढ़कर सभी जानकारी प्राप्त हो चुका होगा, इसे सोश्ल मीडिया पर अवश्य शेयर करें।

हमेशा अपडेट रहने के लिए ग्रुप ज्वाइन करें।

लोगो ने ये भी पूछा हैं | People also ask

Q. सोनपुर का मेला कब लगता है 2023, सोनपुर का मेला कब से लगेगा?

उत्तर:- सोनपुर मेला इस साल 25 नवंबर 2023 से 25 दिसंबर 2023 तक लगेगा |

Q. sonpur mela ka udghatan kab hai?

उत्तर:- सोनपुर मेला का उद्घाटन 25 नवम्बर 2023 को हो चूका हैं, जो 25 दिसंबर तक रहेगा। 

Q. बिहार में सोनपुर मेला कब लगता है?

उत्तर:- कार्तिक पुर्णिमा से प्रारंभ होता हैं और 1 महीने तक रहता हैं।

Q. सोनपुर मेला कहां लगता है?

उत्तर:- सोनपुर मेला बिहार राज्य के सारण जिला अंतर्गत लगता हैं। जो सोनपुर रेलवे स्टेशन पास ही लगता हैं। जिससे दूर-दराज से आने में लोगो को कोई परेशानी भी नही होता हैं।  

Q. सोनपुर का जिला कौन सा है?

उत्तर:- बिहार राज्य के सोनपुर (सारण जिला) में पड़ता हैं।

Q. सोनपुर के मेले की क्या विशेषता थी?

उत्तर:- यह मेला पशु व्यापार के लिए बहुत ही आकर्षक रहा है और इस मेले को शुरू करने का मकसद भी पशु व्यापार की प्रदर्शनी करना और इसे बढ़ावा देना है।

Q. सोनपुर क्यों प्रसिद्ध है?

उत्तर:- यह पशु मेला पूरे भारत ही नही बल्कि पूरे एशिया का सबसे बड़ा पशु मेला है।

Q. Sonpur Mela Kab Se Chalu Hoga?

उत्तर:- सोनपुर मेला 25 नवम्बर 2023 से शुरू हो चूका हैं, जो 25 दिसंबर 2023 तक रहेगा। यदि आप सोनपुर मेला घूमना चाहते हैं, तो तुरंत प्लान करना चाहिए।

Q. सोनपुर मेला कब लगेगा?

उत्तर:- सोनपुर में लग चूका हैं, यदि आप जाने का प्लान किये हैं तो अब जा सकते हैं, यह मेला 25 दिसंबर 2023 तक रहेगा।

About The Writer

Leave a Comment

Contact Us