ITR क्या है, ITR Full Form, ITR Kya Hota Hai, ITR in Hindi?

0
ITR क्या है, ITR Full Form, ITR Kya Hota Hai, ITR in Hindi
ITR क्या है, ITR Full Form, ITR Kya Hota Hai, ITR in Hindi

आज के इस आर्टिकल में आप जानेंगे ITR क्या है, ITR full form – ITR Kya Hota Hai – ITR in hindi? के बारे में पूरी जानकारी के लिए आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े। 

ITR क्या है – ITR Kya Hota Hai ?

दोस्तों आज हम आपके लिए एक ऐसी इंफॉर्मेशन लेकर आए हैं। जिसके बारे में आपने सुना तो होगा ही। लेकिन शायद ही आपको उस इंफॉर्मेशन के बारे में पूरी जानकारी हो। आपने अधिकतर I.T.R शब्द को तो सुना ही होगा। अक्सर लोग कहते हैं कि मुझे I.T.R को भरना है। क्योंकि भारत सरकार ने I.T.R भरना सबके लिए अनिवार्य कर दिया है। तो ऐसी स्थिति में हर कोई I.T.R को तो भरता है। लेकिन अधिकतर लोग I.T.R. शब्द का सही मीनिंग और पूरी जानकारी नहीं रखते हैं। क्या आप जानते हो कि ITR KYA HAI? I.T.R फाइल के फायदे क्या है? I.T.R फाइल को कौन-कौन कर सकता है? I.T.R फाइल के दस्तावेज क्या है? I.T.R फाइल ना भरने के नुकसान क्या है? I.T.R से संबंधित जानकारी इस लेख के द्वारा हम आपको उपलब्ध करवाएंगे। अगर आप भी I.T.R भरते हो लेकिन उस के संदर्भ में जानकारी नहीं रखते हैं। तो उस स्थिति में यह लेख आपकी बहुत ही सहायता कर सकता है। इसलिए आप इस लेख को अंत जरूर पढ़ें और I.T.R से संबंधित जानकारी को पाकर अपने द्वारा भरे गए I.T.R का महत्व जाने।

ITR Full Form – ITR KYA HOTA HAI – आई टी आर क्या है

दोस्तों ITR क्या होता है तो हम आपको बता दे की I.T.R फाइल का संबंध “इनकम टैक्स डिपार्टमेंट” से है। आईटीआर फाइल का मतलब अपनी इनकम का सलाना लिखित में ब्यौरा देना है। मतलब आपको सरकार की गाइडलाइंस के अनुसार आइटीआर को फाइल करना होता है। आरटीआई फाइल करने का एक फॉर्म होता है। यह फॉर्म पर आपको अपने पिछले साल में जितना भी पैसा कमाया है। मतलब फाइनेंसियल स्थिति के बारे में उस सबकी सही रूप से जानकारी उस फॉर्म में फिल्प करके सरकार के समक्ष ऑनलाइन के माध्यम से देनी होती है। इस फॉर्म में आपने कितना पैसा कमाया? आपको कहां कहां से इनकम हुई? कितना पैसा आपने इन्वेस्ट किया? यह सब की जानकारी सही भरनी होती है। जिसे हम I.T.R कहते है।

लेकिन अधिकतर लोग आई.टी.आर. भरने को इनकम टैक्स भरना समझ लेते हैं। यह बात आपको अच्छे से समझनी होगी। आई.टी.आर. में सिर्फ आपको अपने पिछले साल का विवरण देना होता है। अगर आपकी पिछले साल की कमाई इनकम टैक्स दायरे में आती होगी। तभी आपको उसके बाद ही इनकम टैक्स को भरना होगा। इस बात को आपको अच्छे से समझना होगा।

इसे भी पढ़े :- RTI Kya Hai | Suchna Ka Adhikar Kya Hai|RTI कैसे लगाये सभी जानकारी यहाँ पढ़े ।

ITR Full Form – ITR in Hindi

I.T.R का फुल फॉर्म अंग्रेजी में क्या होते है?

I.T.R का फुल फॉर्म अंग्रेजी में “Income Tax Return” होता है।

ITR MEANING IN HINDI?

I.T.R का फुल फॉर्म हिन्दी में “आय कर का विवरणी” होता है।

I.T.R फाइल को कौन-कौन कर सकता है?

दोस्तों भारत का हर वह व्यक्ति जो भारत में रहता है और भारत के तंत्रों से ही कमाई करता है। वह आईटीआर को भर सकता है। ITR को फाइल करने के कुछ नियम होते हैं। जिनमें सामान्य नागरिकों के लिए, वरिष्ठ नागरिकों के लिए और अति वरिष्ठ नागरिकों के लिए सरकार के द्वारा कुछ शर्तें लागू की गई है। जो निम्नलिखित इस प्रकार हैं। जिसके बारे में हमने निचे स्टेप बाई स्टेप तरीके से बताया है।

  • भारत में रह रहे सभी सामान्य नागरिक जिनकी सभी स्त्रोत से आई हुई सालाना इनकम ढाई लाख रुपए से अधिक हो। तब उन सामान्य नागरिकों को आइटीआर फाइल करना अनिवार्यहै ।
  • भारत में रह रहे सभी वरिष्ठ नागरिक जिनकी सालाना इनकम तीन लाख रुपए से अधिक की हो। तब उन सभी वरिष्ठ नागरिकों को आईटीआर फाइल करना अनिवार्य है।
  • भारत में रह रहे सभी अति वरिष्ठ नागरिक जिनकी सालाना इनकम पांच लाख रुपए से अधिक की हो। तब उन सभी अति वरिष्ठ नागरिकों को आईटीआर फाइल करना अनिवार्य है।
  • ऐसे लोग जो सरकारी जॉब करते हो, प्राइवेट जॉब करते हो, पैंशन लेते हो या फिर कोई बड़ा कारोबार करते हो, खुद का बिजनेस करते हो या बड़ी तादाद पर खेती करते हो। जहां से उनको साल की कमाई ढाई लाख से ऊपर की हो। ऐसे सभी लोगों को आईटीआर फाइल करना चाहिए।
  • अधिकतर लोग ऐसे भी होते हैं जो आईटीआर के दायरे में आते हैं। लेकिन आईटीआर को फाइल नहीं करते। तो ऐसी स्थिति में आईटीआर के जो लाभ होते है वह उन सब से वंचित रह जाते हैं। इसीलिए हमारी सलाह यही है कि अगर आप आईटीआर के दायरे में आते हैं या आप आईटीआर के दायरे में नहीं आते हैं। तब भी आप अपना खुद का आईटीआर फॉर्म को फिल्प करके ऑनलाइन के माध्यम से आईटीआर को फाइल कर सकते हैं। जिससे कि आपको आईटीआई के सारे फायदे मिलने शुरू हो जाएंगे।

I.T.R फाइल ना करने के नुकसान क्या होते है?

दोस्तों आईटीआर ना भरने के नुकसान भी हो सकते हैं। क्योंकि आईटीआर की तरफ से हर वर्ष इनकम टैक्स रिटर्न भरने की तारीख निकाली जाती है। यह तारीख जुलाई महीने और अंतिम दिसंबर महीने तक होती है। आपको इन 6 महीने के अंदर अपना आईटीआर का फॉर्म फाइल करना होता है। अगर आप ऐसा नहीं करते तो आपको नुकसान हो सकता है जो निम्नलिखित इस प्रकार है। जिसके बारे में हमने निचे विस्तार से बताया है। 

  • अगर आप इनकम टैक्स के दायरे में आते है और आप अपना आईटीआर फाइल नहीं करते हैं। तो उस स्थिति में आपको भारी जुर्माना भी देना पड़ सकता है।
  • ITR फाइल ना करने पर आपको इनकम टैक्स रिटर्न के जो भी बेनिफिट होते हैं उन सब का आप लाभ नहीं उठा सकते है। 
  • अगर आपने अपने आईटीआर फॉर्म में अपनी कमाई का सही विवरण नहीं दिया है। तो उस स्थिति में संविधान कानून के अनुसार आई.टी.आर कानून के तहत 8 महीने से लेकर 7 साल तक की सजा का कड़ा प्रावधान भी है।

आईटीआर से क्या फायदा क्या है – Itr Benefits in Hindi?

दोस्तों अगर आप अपना आईटीआर फाइल को सही समय पर और सही जानकारी से भरते है तो आपको इसके निम्नलिखित फायदे मिल सकते हैं। जैसे की 

1- I.T.R इनकम का प्रूफ होता है।

मतलब सरकार की तरफ से आपको एक वैलिड इनकम प्रूफ का सर्टिफिकेट दिया जाता है। जिससे यह साबित होता है कि आप एक अच्छे और ईमानदार टैक्स पेयर हैं। जो समय पर अपना टैक्स भरते हैं। इस इनकम प्रूफ सर्टिफिकेट्स से आप किसी भी बैंक में बहुत ही आसानी से लोन या क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड प्राप्त कर सकते हैं।

2 – आप I.T.R फाइल करने से रिफंड क्लेम कर सकते है।

मतलब बहुत से लोग ऐसे होते है जो इनकम टैक्स की केटेगरी के अंदर नहीं आते है। इसीलिए वह इनकम टैक्स को भरने के बारे में सोचते नहीं है। लेकिन किसी कारणवश उनका कभी कभार टीडीएस कट जाता है। लेकिन अगर आप अपना आईटीआर फाइल हर साल भरते है। तो उस लिहाज से आप रिफंड क्लेम करके अपना पैसे को वापस भी ले सकते हो।

3 – I.T.R फाइल इंश्योरेंस पॉलिसी के लिए भी अनिवार्य है।

मतलब अगर आप कभी इंश्योरेंस पॉलिसी लेते हैं। वह इंश्योरेंस प्लान 50 लाख रुपए से लेकर 1 करोड़ रुपए या एक करोड़ रूपय से अधिक की होती है तो उस स्थिति में बीमा कंपनी आपका आईटीआर फाइल चेक करती है या आपसे आईटीआर से संबंधित जानकारी देने की गुजारिश करती है। वह इसलिए कि उनको आपकी इनकम से संबंधित जानकारी का पता चल सके। तभी आप इतनी बड़ी इंश्योरेंस पॉलसी ले सकते हैं।

4 – I.T.R. फाइल भरने से बैंक लोन मिलने में आसानी होती है। 

मतलब अगर आप बैंक से लोन लेने चाहते हो तो उस लिहाज से बैंक आपसे आईटीआर फाइल का कोई प्रूफ मांगता है। इस कंडीशन में आप आईटीआर भरे विवरण का प्रूफ दे सकते है। जिससे आपको घर लोन या पर्सनल लोन लेने में बहुत ही आसानी होती है और बैंक आपको लोन देने से मना नहीं कर सकता है। क्योंकि बैंक को विस्वास हो जाता है कि आप लोन की किस्त सही समय पर भर सकते है और आपके पास बैंक लोन को वापस करने की क्षमता है। आईटीआर प्रमाण पत्र लोन की गारंटी के आधार पर मान्य होता हैं।

5 – I.T.R. फाइल करने से वीजा मिलने में आसानी होती है।

अक्सर लोग बाहर देश में पढ़ाई करने के लिए जाते है। कुछ लोग बाहर देशों में घूमने के लिए भी जाते है। तो उस लिहाज से वीज़ा प्रबंधक आपके पिछले कुछ सालो का आईटीआर फाइल रिटर्न का स्टेटस चेक करते है। जिससे वह आपकी आर्थिक स्थिति का मुआयना करते है। जो लोग हमारे देश में आ रहा है। वह आर्थिक रूप से क्षम है। आईटीआर वीज़ा प्रवधान के लिए सबसे अच्छा और सरकारी मान्यता प्राप्त प्रूफ बन जाता है। इसीलिए आपको आईटीआर फाइल जरूर करना चाहिए।

6 – I.T.R. फाइल करने से चिन्ता मुक्त होता है।

अगर आप अपना आईटीआर हर साल समय पर भरते है। तो उस स्थिती में आप चिंता से मुक्त होकर बिना डरे अपने बैंक अकाउंट से पैसो के बड़े ट्रांजैक्शन कर सकते है। आपको इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की ओर से कोई भी नोटिस नहीं आता। अगर आ भी जाये तो आप आईटीआर प्रमाण पत्र को दिखाकर उस नोटिस का जबाब दे सकते हो।

7 – I.T.R भरने से कॉन्टैक्ट मिलने में आसानी होती है।

मतलब अगर आपने किसी ठेकेदार की हैसियत से कोई ठेका लेना है। तो उस समय आपसे आईटीआर फाइल से संबंधित जानकारी मांगी जाती है। खासकर सरकारी ठेका लेने के लिए आईटीआर प्रमाण पत्र बहुत ही आवश्यक होता है। तो ऐसी जगह पर आईटीआर वालो को प्राथमिकता दी जाती है।

8 – I.T.R. फाइल करने से ईमानदार छवी बनती है। 

I.T.R. भरने वालों को ईमानदार छवी का माना जाता है जिससे ऐसे लोगो को हर जगह प्राथमिकता दी जाती है। जिससे उनको इसका बहुत ही फायदा मिलता है।

I.T.R फाइल करने से संबंधित दस्तावेज 

  • पैन कार्ड  (Pan Card Kaise Banaye)
  • सैलरी पे स्लीप
  • सलाना कमाई का ब्यौरा
  • आधार नंबर 
  • मोबाइल नंबर 

इसे भी पढ़े:- PAN Card Annexure A Form PDF Download | Pan Card में Father Name सुधार कैसे करें?

I.T.R फाइल कैसे करें- ITR File Kaise Kare

I.T.R फाइल करने के निम्नलिखित तरीके इस प्रकार है। 

  • आप आईटीआर को ऑनलाइन कर सकते है।
  • आईटीआर को आप बैंक में जाकर आईटीआर से संबंधित फॉर्म को भरकर जमा कर सकते है।
  • आईटीआर को आप किसी भी CSC सेंटर में जाकर ऑनलाइन भर सकते है।
  • आप आईटीआर फाइल को अपने मोबाइल पर इनकम टैक्स रिटर्न लिंक या पोर्टल www.eportal.incometax.gov.in के माध्यम से अपनी खुद की आईडी बनाकर भी फाइल कर सकते है।
ITR File Kaise Kare
itr official website
  • आप किसी आईटीआर से संबंधित एजेन्ट(CA) से भी अपना I.T.R. फाइल करवा सकते है।

FAQ

Q.1 आईटीआर क्यों भरा जाता है?

उत्तर:- आईटीआर इनकम का प्रूफ होता हैं, सरकार को अपना इनकम दिखाने के लिए आटीआर भरना अनिवार्य होता हैं। 

Q.2 ITR कौन भर सकता है?

उत्तर:- ऐसे कोई भी व्यक्ति जिनका सालाना इनकम 2.5 लाख से ज्यादा होता हैं। 

Q.3 ITR कितने प्रकार के होते हैं?

उत्तर:- आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए आईटीआर 1 और आईटीआर 2 अलग-अलग रूप हैं।

Q.4 आईटीआर से क्या फायदा?

उत्तर:- ITR सबसे स्वीकार्य इनकम प्रूफ है, ITR एड्रेस प्रूफ में भी आता है काम, ITR भरने से टैक्स रिफंड मिल सकता है, ITR भरने से बैंक लोन मिलने में आसानी होती है, ITR बिजनेस शुरू करने के लिए भी है जरूरी, ITR ज्यादा इंश्योरेंस कवर के लिए भी है जरूरी, ITR विकसित देशों के Visa के लिए है। 

Q.5 आईटीआर नहीं भरने पर क्या होता है?

उत्तर:- अगर आपका इनकम ज्यादा हैं और आप ITR नही भरते हैं तो आप से इनकम टैक्स डिपाटमेंट सवाल कर सकती हैं। 

Q.6 क्या हम बिना CA के आईटीआर फाइल कर सकते हैं?

उत्तर:- हाँ, बिलकुल मगर इसके लिए कुछ बेसिक जानकारी होना चाहिए। 

Q.7 आईटीआर बनवाने में क्या क्या लगता है?

उत्तर:- पैन कार्ड, आधार कार्ड, बैंक अकाउंट, मोबाइल नंबर। 

निष्कर्ष / Conclusion

इस ब्लॉग लेख में आपने ITR क्या है, ITR Full Form, ITR Kya Hota Hai, ITR in Hindi? के बारें में विस्तृत से जाना है आशा करता हूँ, ITR का सम्पूर्ण जानकारी मिल चुका हैं।

यह जानकारी और अधिक लोगों तक पहुंचाने के लिए इस आर्टिकल को सोश्ल मीडिया पर और अपने रिस्तेदारो और दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें। शुक्रिया…www.BiharForm.com

हमेशा अपडेट रहने के लिए ग्रुप ज्वाइन करें।

WhatsApp

इसे भी पढ़े:– Cheque Book Issue Application In Hindi | चेकबुक के लिए आवेदन कैसे लिखे?

इसे भी पढ़े:–  Band khata Chalu karne ka Application Kaise Likhe | खाता चालू करवाने के लिए एप्लीकेशन कैसे लिखें?

इसे भी पढ़े:– Flight Me Kitna Cash Le Ja Sakte Hai | फ्लाइट में कितने पैसे की अनुमति है?

इसे भी पढ़े:- विवाह प्रमाण पत्र | Vivah Panjikaran | Marriage Certificate Form

इसे भी पढ़े:- अविवाहित प्रमाण पत्र – Unmarried Certificate कैसे बनता हैं ? Unmarried Certificate Pdf Download

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here